Categories
Places to Visit

A Pallet of Twilight Hues – A Tale of Sunsets in Udaipur

Daylight melts into a palette of dreams,
As twilight weaves its gentle streams!

1. Sunset silhouettes at Karni Mata Temple, where prayers meet the horizon

Sunsets are the most beautiful things that creates value to the places to visit in Udaipur. Udaipur is popular during sunset when you can find an unobstructed view of how different symphony of colors providing a fleeting delight. There are many places in Udaipur where beautiful sunsets are viewed.

The most beautiful sunset is from the sunset point garden from where there is an excellent view of the dusk and weekly held musical fountain show. The show is held every Monday after the twilight. It is located at the southeastern part of Pichola lake by the side of Dudh Talai and ahead of M.L. Verma park. It is one of the most visited gardens in Udaipur. Along with this, there is a ropeway that helps in giving us a tremendous outlook of the city. Not only the temple, the view is itself one of the most spectacular point where the sunrise is also treasured. Udaipurites are blessed to have beautiful sunset and sunrise and between sunset and sunrise the weather and green environment at the top of the hill is such a blessing for all!

If Udaipur is your one spot destination, then this temple visit for sunrise and sunset is to be in the bucket list!

2. Monsoon Palace: where clouds embrace heritage

It is situated in the Aravali mountains, 3100m above sea level, the enchanting Monsoon Palace that can be spotted from Udaipur from all sides. To the foot of the mountain, the ride to the monsoon palace is far and by this it is meant that tuk – tuk from the city is to be hired. The walk to the palace is 1 hour uphill and there are other surrounding views that are captured while the travel to the palace. By boosting the panoramic views of the city, the monsoon palace is one of the best places where the enlightened city lights are captured from top of the hill.

It is considered as one of the decent spots in Udaipur and by this the 360 degree view of the city is made possible by the hues of sunset and sunrise. It is one of the most treasured palace since the historic times where the Raja Maharaja’s of Udaipur used to stay. List it in your bucket if planning to stay for nights and days in Udaipur!

3. Golden skies over tranquil waters: Sunset at Lake Pichola, Udaipur

One of the most top tourist attraction in Udaipur is Lake Pichola where the colors of twilight are reflected into waters and sunset dreams are treasured. It is a place where creation of peace is gifted from the bustling city. The boat rides during sunset are special and this collects the memories for lifetime. By looking over the mountains and cherishing the weather with greenery all around is highly valued. A close up of grandeur Taj Lake Palace Hotel and Jagmandir Island uplifts the heritage of city Udaipur.

As one is set to travel to Udaipur, it is must that this sunset point is not be missed at any cost. It is one precious lakes around the world that is highly famous. Lake Pichola is one of the exquisite lakes from where the water meets sky and its other shades during the sunset. The best sunset can be viewed from Lake Pichola situated between the center of city. In my opinion, to be mesmerized by the sunset, a traveler must visit to relish the sky meeting water is precious.

4.

Categories
Events

Top New Year Parties in Udaipur 2024

Did you miss the rush of adrenaline that comes with crazy, amazing, and most awaited parties? Did you think the unthinkable, that is to plan about celebrating with people during this pandemic?

When the temperature chills down to freeze the night, these New Year parties in Udaipur make the atmosphere hot and happening. If you have, then this New Year, you can act on those thoughts. Glam up yourselves, take out that sparkling personality with the outfit you couldn’t find an occasion for and get ready to party.

We have put down this list of places for your reference, as to where you want to celebrate your New Year’s.

New Year Party in Udaipur on 2023-2024

So, let’s check out some of the Best New Year Parties in Udaipur to Welcome 2024!

Kudrat Camping Festival @ Kudrat, Badi Road

Kudrat Camping Festival offers exhilarating vibes of the New Year like never before! Kudrat is a beautiful, serene villa filled with nature and natural vibes. As the clock strikes midnight, you can immerse in their wild festivities, surrounded by the breathtaking wilderness of Kudrat. With a lineup of multiple performances, electrifying LIVE artists, pulsating DJ sessions, and a spectacular display of crazy fireworks, the night promises to be an unforgettable celebration. Experience the thrill of camping under the starlit sky with cozy camp stays and enjoy the warmth of a campfire. Gaze at the mesmerizing stars during star-gazing sessions, and treat your taste buds to scrumptious food that adds a delicious touch to the celebration.

Entry Details- 

  • Single Stag Entry: Rs.2999/- (Unlimited Food)
  • Couple Entry: Rs.4499/- (Unlimited Food)
  • Couple Entry (with Tent Stay): Rs.5499/- (Camp Stay + Unlimited Food)

Location-  Near Narayan Seva, Badi Road, Udaipur (10 mins Drive from Lake Fatehsagar)

Call For Best Offers on Bookings: +91-9521101511 , +91-9462211193

Book Tickets Online – bit.ly/kudratnewyear

 

Alsigarh Festival @ Alsigarh

The picturesque town of Alsigarh is gearing up for a grand celebration as it prepares to host the much-anticipated Alsigarh Festival on December 31st. Alsigarh is yet another beautiful location situated amidst nature. The town, known for its rich cultural heritage and vibrant community spirit, is set to transform into a hub of festivities as residents and visitors alike come together to bid farewell to the old year and welcome the new one. Happening at Kalashetra, Alsigarh Festival imbibes a unique zeal within everyone who is present at the venue. So, if you are someone looking for a New Year event under the starlit sky, Alsigarh Festival is the best for you for New Year 2023. 

Entry Details-

  • Stag: Rs.2950/-
  • Couple: Rs.5500/-
  • Couple Camp Stay: Rs.7000/-

Location- Kalashetra Studio, Alsigarh

Tickets Link: Click here to book.

For bookings and queries: +91-96494 44664

Twist’s NYE 2024 @ Twist Bar and Lounge 

Experience an unrivaled New Year’s Eve celebration as they gear up for a spectacular event that promises to elevate the festive spirit to unprecedented heights. The anticipation is palpable as attendees prepare for an extravagant feast of flavors and beats, setting the stage for an unforgettable night. The atmosphere is charged with joyous vibes, creating the perfect backdrop for revelry in the company of good friends. This is an opportunity to make memories that will linger long into the coming year. The best thing about Twist’s New Year is that you get two options with same feels. Yes, you can enjoy Twist’s New Year event at two locations, Twist Lounge and Bar and Ashoka Green. Amazing, right? 

Entry Details

  • Male Stag: Rs.2500/-
  • Female Stag: Rs.1500/-
  • Couple: Rs.3500/-

Location–  Twist Bar and Lounge, Connaught Place, Udaipur

For ticketsClick here

For more queries: 8306231050

The Arrival of NYE 2024 @ Dheergarh Palace 

Get ready to bid farewell to the old and welcome the new in style at Dheergarh Palace’s spectacular New Year’s Eve party! If you are someone looking for a New Year Eve in the city lights, Dheergarh Palace could be your go-to destination. Adding a tint of tradition to the NYE2024, Dheergarh Palace in Udaipur, hosts you with amazing food and a traditional performance. As the clock ticks down to midnight, immerse yourself in a night of dazzling lights, infectious laughter, and unforgettable moments. Surrounded by friends and the promise of exciting adventures ahead, step into the New Year with a burst of joy.

Entry Details–

  • Stag Entry: Rs.2500/-
  • Couple: Rs.4000/-
  • Group Entry: 6500/- to 10000/-

Location– D-26 Haridas Ji ki Magri, Trident Rd, Udaipur

For more queries: 8048102339, 7737037669

Grand New Year Celebration @ BB’s Club 

Beyond Bar and Club in Udaipur is regarded as one of the best clubs to enjoy both weekdays and weekends. And, New Year is no different! BB’s Club emerges as the ultimate destination for a sensational New Year’s Eve celebration. Nestled in the heart of the city, the club pulsates with an electric energy that promises an unforgettable night. The stage is set for an extraordinary musical journey with the soul-stirring performances of renowned artists Navjot and the Waqt ka Khel band. Their captivating melodies and energetic beats create an immersive experience, seamlessly blending diverse musical genres. BB’s Club is not just a venue; it’s a haven for those seeking a unique and vibrant atmosphere to bid farewell to the old and welcome the new. So, you can always be ready for an eclectic evening at BB’s Club, New Year or not!

Entry Details–

  • Stag Entry: Rs.3999/-
  • Couple: Rs.6999/-

Location – 28A, Haridas Ji Ki Magri, Shavri Colony, Udaipur

For more queries: 8441999111

Welcome of 2024 @ Mementos by ITC Hotels Ekaaya Udaipur

As we bid adieu to the year gone by and eagerly await the dawn of a promising 2024, Mementos by ITC Hotels Ekaaya Udaipur is thrilled to invite you to an unforgettable New Year’s Eve celebration. If you are looking forward to a New Year amidst the Aravali ranges at a luxurious location, this is your place to be. Countdown with Aravalis, a great start to 2024 is on them. Situated a little away from the hustle and bustle of the city, you can also enjoy a drive with your family, friends, and loved ones.

Location: Raya, Nr, Eklingji, Rajasthan 313324

Contact – 9773318052, 9773318082, 9929922942

Mathara’s NYE 2024 @ Mathara – The Heights

Get ready to ring in the New Year with unparalleled excitement at Mathara NYE 2024! Join us for a sensational celebration featuring the perfect trifecta of entertainment – a dynamic DJ, electrifying live music, and an array of delectable delights with unlimited food. Being the highest rooftop restaurant in Udaipur, it offers and amazing view of the city. As the clock counts down, immerse yourself in the infectious beats, dance the night away, and savor a feast that tantalizes your taste buds. Mathara NYE 2024 promises an unforgettable night of joy and jubilation, creating memories that will last well into the new year. Don’t miss out on the ultimate New Year’s Eve experience – come together with friends and loved ones as we welcome 2024 in style!

Entry Details–

  • Stag Entry: Rs.3500/-
  • Couple: Rs.5500/-

Location– 8 th Floor, Lake City Mall, Durga Nursery Rd, Shakti Nagar, Udaipur

For more queries: 9929230924 / 7689039960/ 9829966924

 

Desro New Year Camping Fest @ Madar Lake

Embrace the magic of the New Year under a celestial canopy and surrounded by awe-inspiring mountain vistas at DESRO ADVENTURES’ exclusive New Year Camping fest! Along with camps and music, you also get to witness the cosy bonfire.  Join us for a unique celebration, where nature meets revelry, promising an unforgettable start to the year ahead. Nestled amidst the tranquility of the mountains, our campsite offers an immersive experience, featuring crackling bonfires, starlit skies, and a sense of camaraderie like never before. Bid farewell to the old and usher in the new in an extraordinary setting, creating memories that will last a lifetime. Let DESRO ADVENTURES be your gateway to an unparalleled New Year celebration!

Entry details:

  • Stag: Rs.2500/-
  • Couple: Rs.4000/-

Location: Madar Lake

To book tickets: Click Here

Contact: +91 8233912909

Underground 2024 @ Southland’s Hotel

Celebrate the dawn of a new year in style at Southland’s Hotel, where we present Udaipur’s Biggest Open Air New Year Party! Immerse yourself in a brilliant fiesta atmosphere featuring mesmerizing LED shows, energetic dance performances, non-stop music, and an atmosphere of total madness. The event promises unforgettable moments with highlights like unlimited servings of delectable veg and non-veg food, three complimentary liquor drinks to kick off the festivities, and a breathtaking fireworks display at midnight. Join their for the NY countdown celebration and indulge in an evening filled with joy, laughter, and a vibrant celebration of new beginnings. 

Entry Details

  • Stag Entry: Rs.2999/-
  • Couple: Rs.5499/-

Location: 14, Southland’s Hotel, Fatehpura, Nathdwara Road, Udaipur

To book tickets: Click here.

Contact – 9636763104, 8302098416

Categories
Places to Visit

Where to Enjoy Disco Parties in Udaipur

At times of celebrations, all that we want is loud rock and roll, coloured sparkly lights and a few friends with whom we can move our feet on and dance to our favourite tracks. So, we bring you a list of Disco venues in Udaipur where you can not only have a good time yourself but also give a memorable time to your buddies.

1.) Twist

Following in the footsteps of metro nightlife, Twist is a glitzy bar and lounge space with an enigmatic aesthetic. The lively music played by local and international DJs adds to the feeling that anything is possible in this place. The best part is that it has no entrance fee and the club is accessible throughout the week. While the evenings feature live music performances by musicians, the majority of visitors say the staff are pleasant. One may describe the service at this establishment as enjoyable. Overall, a good place with a chill vibe.

Address: Connaught Place, Shobhagpura, Udaipur

Contact: +91 8306231050

2.) Big Shot Udaipur

You will be lured to The Big Shot’s rustic atmosphere as soon as you walk in due to its chic ambience. One of Udaipur’s swankiest and trendiest pubs, The Big Shot, draws sizable audiences every day. It has fantastic music, delectable food, and a wide selection of drinks. Both the setting and the food are superb. The extensive menu will satisfy all palates, and the variety of drinks will without a doubt, quench your thirst. The lounge area gets even more lively over the weekends.

Address: Near New RTO, Opp MPUAT back gate, Sukher-Pratap Nagar Road, Udaipur

Contact: +91 9660550441

3.) Vegas69 Bar & Lounge

Had a busy week? Call your pals and head out to Vegas69. With numerous lights and neon signs, the atmosphere is rather jazzy. Additionally, there is a good selection of drinks, and the pub frequently hosts both ladies’ nights and Bollywood nights. Whether you enjoy dancing or not, the DJ’s incredible selection of music will get you in the mood. The service is polite, and the food and drinks are top-notch.

Address: 2nd Floor, above Mom & Me 100 Ft. Road, Opposite Old Ashoka Palace, Shobhagpura, Udaipur

Contact: +91 8829949809

4.) The Beat Town

Are you a party person? Or do you not enjoy going to parties? However, it doesn’t really matter once you enter The Beat Town. You will fall in love with parties because of their upscale and gorgeous nightlife! You can get anything you want from this amazing club. This glamorous place, hosts club nights. If you want to have a wild time with your buddies and you happen to be in Udaipur, you should go here. The Beat Town is a place where you may have fun with your pals. This high-end club gives you the best experience you have been longing for thanks to the helpful and kind staff that is always there to listen to you and laugh with you!

Address: Plot No.10, Balicha, Rural, Road, Goverdhan Villas, Udaipur

Contact: +91 7878632970

5.) Illuzion Bar & Lounge

It is difficult to resist the temptation of Illuzion Bar & Lounge when it comes to disc parties. With an amazing vibe, the place is keenly designed in a French architectural style. It brings about a retro vibe and adds a memorable charm to the night. The place hosts thematic parties that include Retro Nights, Women’s Special nights, and other such events. It is a fun place to be in when you want to experience an escapade from city life. 

Address: The Belmonte House, K 34, Airport Road, Sunderwas, Udaipur

Contact: +91 9950680044

6.) The Artist House

The Artist House

A stylish new hangout for creative folks opened in a building that was once a theatre but has been renovated and refurbished. The Artist House is the best venue to party with a DJ on Friday and Saturday evenings, which draws a hip, young crowd. There is also a bar area along with the pool. In addition to cocktails, a wide range of wines and beers are offered. The Artist House offers excellent food, a pleasant atmosphere, and a good selection of wines. Their disco bar takes pride in its distinctive drinks and food selections, which are influenced by royal family customs. As the sun sets, The Artist House transforms into a disco, with loud music, a rocking DJ and all the lights.

Address: Near Ashoka Cinema Rd, Thakkre Baba Colony, Surajpole, Nada Khada, Udaipur

Contact: +91 7357368222

Now, that you have the list of these amazing disc party venues in Udaipur, learn some funky dance moves, collect your friends and celebrate life without any reason.

How many of them have you visited? Feel free to share your suggestions or inputs on info@udaipurblog.com 

Categories
Travel

Why do Gujaratis Love to Come to Udaipur?

We know who to welcome to the City of Lakes whenever we see a GJ written on a vehicle! Yes, we are talking about neighbors and the most prominent guests of Udaipur, the Gujaratis. Their contributions to the city’s tourism and hospitality industry have always been valued. Also, their love for the city is huge, and you can see the obvious reasons below!

Beautiful Views

udaipur views
Source: tripsavvy

Discussions of Udaipur’s immense magnificence and allure take place not just in India but also around the world. These days, the city is undoubtedly on everyone’s must-travel list! But more often than not, the name of the city recurs in Gujarati diaries. We assume that they will be forever overwhelmed by the stunning lakes, landscapes, and Aravali Hills. And that’s why they find it difficult to resist coming here for just one weekend every month or two.

Accessibility

udaipur-ahemdabad distance
Source: statesindays

When it comes to the distance between Gujarat and Udaipur, that is absolutely minimum. Ahmedabad is only 262 kilometers and approx 5 hours away. People can come here much more easily because it is the closest location. Like that they save much of the traveling expenses too. That’s why most of the people end up spending any small vacay they get in Udaipur.

Economical

fatehsagar
Source: wordpress

The eateries in Udaipur are very scrumptious as well as pocket-friendly and people of Gujarat are foodies. There are a tonne of bazaars in the city as well. And people can easily track down things with viable prices there. One would undoubtedly adore gathering souvenirs to remember their visit.

clubs in udaipur
Source: udaipurian

Well, even Udaipur has a thriving nightlife these days. If you know what you know, that is a bit of a difficult thing to happen in Gujarat. And who would want to give up the opportunity to experience it in the most accessible and affordable city?

One can Even Reach By Road

udaipur gujarat road
Source: epcworld

The idea of planning a road trip could be well executed if Gujaratis decide to come to Udaipur for it. This is because of less distance and accessibility. Even the scenic views near the city would give anyone Bollywood-like road trip feels throughout.

Places to visit near Udaipur are a Cherry on the Cake

kumbalgarh
Source: udaipurian

The city of lakes doesn’t just behold beauty in itself but at its outskirts as well. There are several natural places around Udaipur which turn into complete heaven during the on-going monsoon. And who would want to miss the sight of and ultimately Gujaratis get attracted to it.

shrinathji
Source: nathadwarablog

Moreover many temples are also located near the city. One of the most famous temples is in Nathdwara of ShriNathji, pratiroop of Lord Krishna. People of Gujarat and Mewar specifically hold immense faith in this sacred place. One feels overwhelmed to visit there seeking the blessings from Thakur ji. 

Well Gujaratis and their obsession to keep coming to Udaipur makes us gratified. We love to be hospitable to them and as an Indian we’ve always been taught “Atithi-Devo-Bhava”. It means guests are the replicas of Godly figures.

Nonetheless it is assured that this ‘love-storiyan’ won’t ruin anything, rather it’d help the tourism and hospitality industry grow more!

 

Categories
History and Culture

मेवाड़ इतिहास के पांच रत्न

मेवाड़ वीरों की भूमि रही है। यहाँ पर बहुत सारे वीरों ने जन्म लिया है। इसका सबसे सर्वोत्तम उदाहरण है “महाराणा प्रताप”। इनके साथ में कुछ और भी व्यक्तित्व के धनी लोग थे, जिन्होंने मेवाड़ की वीर भूमि पर अपनी अमिट छाप छोड़ी है। इन्ही में से कुछ पांच रत्नों की बात आज हम यहाँ कर रहे है।

1. पन्नाधाय

panna dhaay
पन्नाधाय

जनवरी 1535 की बात है। गुजरात के बादशाह बहादुर शाह ने चित्तौड़ पहुंचकर दुर्ग को घेर लिया था। हमले की खबर सुनकर चित्तौड़ की राजमाता कर्मवती ने अपने सभी राजपूत सामंतो को सन्देश भिजवा दिया कि-यह तुम्हारी मातृभूमि है, इसे मैं तुम्हे सौंपती हूँ, चाहो तो इसे रखो, चाहो तो दुश्मन को सौंप दो।

इस सन्देश से पूरे मेवाड़ में सनसनी फैल गई और सभी राजपूत सामंत मेवाड़ की रक्षा करने चित्तौड़ दुर्ग में जमा हो गए। रावत बाघ सिंह किले की रक्षात्मक मोर्चेबंदी करते हुए स्वयं प्रथम द्वार पाडन पोल पर युद्ध के लिए तैनात हुए। मार्च 1535 में बहादुर शाह के पुर्तगाली तोपचियों ने अंधाधुन गोले दाग कर किले की दीवारों को काफी नुकसान पहुंचाया तथा किले के नीचे सुरंग बनाकर उसमें विस्फोट कर किले की दीवारें उड़ा दी।

राजपूत सैनिक अपने शौर्यपूर्ण युद्ध के बावजूद तोपखाने के आगे टिक नहीं पाए और ऐसी स्थिति में जौहर और शाका का निर्णय लिया गया। राजमाता कर्मवती के नेतृत्व में 13000 वीरांगनाओं ने विजय स्तम्भ के सामने लकड़ी के अभाव में बारूद के ढेर पर बैठ कर जौहर व्रत का अनुष्ठान किया। जौहर व्रत संपन्न होने के बाद उसकी प्रज्वलित लपटों की छाया में राजपूतों ने केसरिया वस्त्र धारण कर शाका किया। वहीँ किले का द्वार खोल शत्रु सेना पर टूट पड़े। बहादुर शाह दिल्ली का मुग़ल बादशाह था। वो चित्तौड़ किले में पहुंचा और उसने भयंकर लूटपाट मचाई। चित्तौड़ विजय के बाद बहादुर शाह, हुमायूं से लड़ने के लिए रवाना हुए और मंदसौर के पास मुग़ल सेना से हुए युद्ध में हार गया। जिसकी खबर मिलते ही 7000 राजपूत सैनिकों ने आक्रमण कर पुनः दुर्ग पर कब्ज़ा कर लिया। विक्रमादित्य, जो रानी कर्मवती के पुत्र थे, पुनः उन्हें उनकी गद्दी पर बैठा दिया गया।

चित्तौड़ लौटते समय विक्रमादित्य ने देखा कि नगर नष्ट हो चुका है, अब चित्तौड़ के असली उत्तराधिकारी विक्रमादित्य थे। उनका एक छोटा भाई था, जो उस समय मात्र छः वर्ष का था। परन्तु उस समय एक दासी पुत्र बनबीर ने रीजेंट के अधिकार हथिया लिए थे। उसकी नियत और लक्ष्य चित्तौड़ की राजगद्दी हासिल करना था। उसी के चलते उसने विक्रमादित्य की हत्या कर दी थी। अब उसका एकमात्र लक्ष्य चित्तौड़ के वंशानुगत बालक उत्तराधिकारी उदय सिंह को मारना था।

बालक उदय की धाय माँ पन्नाधाय ने उसकी माँ राजमाता कर्मवती के जौहर द्वारा स्वर्गारोहण पर पालन पोषण का दायित्व संभाला था। वे स्वामी भक्तित्व अनुकरणीय लगन से उसकी सुरक्षा कर रही थी। तभी महल के एक तरफ से तेज चीखे सुनाई देने पर पन्नाधाय ने यह अनुमान लगा लिया था की शत्रु राजकुमार बालक उदय सिंह की तलाश में आ ही गया। उसने तुरंत बालक उदय सिंह को टोकरी में सुलाकर पत्तियों से ढक कर एक सेवक को उसे सुरक्षित रखने की जिम्मेदारी सौंप दी और उस खाट पर उदय सिंह की जगह अपने बालक को सुला दिया। सत्ता पाने के नशे में चूर बनबीर ने वहां पहुँचते ही पन्ना के पुत्र को उदयसिंह समझकर तलवार से वही मार डाला।

पन्ना कई समय तक दुष्ट बनबीर के चंगुल में न आने के डर से इधर-उधर भटकती रही। फिर उन्हें कुम्भलगढ़ में शरण मिली। उदय सिंह किलेदार का भांजा बनकर बड़े हुए, तेरह वर्ष की उम्र में उनको मेवाड़ी उमरावों ने अपना राजा स्वीकार कर लिया और राज्याभिषेक कर दिया। इस तरह उदय सिंह मेवाड़ के वैधानिक महाराणा बन गए। स्वामिभक्ति एवं निःस्वार्थ भाव से पन्नाधाय ने अपने स्वामी के प्राणों की रक्षा के लिए अपने पुत्र का बलिदान दे दिया। एक माँ का इस प्रकार से अपने स्वामी की रक्षा के लिए पुत्र का बलिदान का उदाहरण इतिहास में कहीं भी नहीं मिलेगा।

 

2. भामाशाह

bhamashah
भामाशाह

भामाशाह महाराणा प्रताप के बचपन के ख़ास मित्र है। उनका जन्म ओसवाल जैन परिवार में हुआ था। उनके पिता का नाम भारमल था, जो रणथम्भौर के किलेदार थे। उन्हें बाद में महाराणा उदय सिंह के नेतृत्व में प्रधानमंत्री बना दिया था। भामाशाह ने अपने छोटे भाई ताराचंद के साथ मेवाड़ की बहुत सी लड़ाइयों में भाग लिया था। कहा जाता है कि जब महाराणा प्रताप अपने परिवार के साथ जंगलों में भटक रहे थे, तब भामाशाह ने अपनी सारी जमा पूंजी महाराणा को समर्पित कर दी थी। जिस समय मेवाड़ एवं महाराणा प्रताप को धन की अत्यधिक आवश्यकता थी, ऐसे कठिन समय में ताराचंद एवं भामाशाह ने महाराणा प्रताप को लाखों रुपए एवं सोने के सिक्के भेंट किए। इस धन से महाराणा ने एक सेना संगठित की तथा बाद में मुग़लों की सेना के शिविरों पर हमला किया। 11 जनवरी 1600 को इनकी मृत्यु किसी बीमारी के कारण हो गई थी। भामाशाह ने अपना पूरा जीवन लालच और स्वार्थ से ऊपर उठकर मेवाड़ पर बलिदान कर दिया।

 

3. राणा पूंजा

rana punja
राणा पूंजा

राणा पूंजा भील जनजाति के थे। वे महाराणा प्रताप के विश्वसनीय सैनिक थे। पूंजा ने महाराणा प्रताप हल्दी घाटी युद्ध में मुग़ल सेना से लड़ाई लड़ी थी। पूंजा एवं उनके साथी, भील जनजाति ने महाराणा प्रताप युद्ध में अपना एक बहुत ही महत्वपूर्ण योगदान दिया था। आज भी इतिहास के पन्नो में एक तरफ महाराणा प्रताप तो दूसरी तरफ राणा पूंजा का नाम भी आता है। स्वयं महाराणा प्रताप ने पूंजा के नाम के आगे “राणा” की उपाधि लगाईं थी। संपूर्ण मेवाड़ पूंजा के त्याग के कारण भील जनजाति का अत्यधिक ऋणी है। मेवाड़ के इतिहास में इनके त्याग के फलस्वरूप जब भी कोई नया महाराणा राजगद्दी का उत्तराधिकारी बनता था तो एक भील अपने खून से नए महाराणा का राजतिलक किया करता था। उसके बाद ही नए महाराणा को मान्यता मिलती थी। इसके साथ ही राणा पूंजा एवं भील जाति के लोगों के त्याग एवं बलिदान की भावना का सम्मान करते हुए, मेवाड़ के राजवंश ने अपने राजचिन्हों अथवा मेवाड़ के झंडो में एक राजपूत के साथ-साथ एक भील को भी शस्त्रों के साथ खड़ा दिखाया है, जो भील समुदाय के लिए अत्यंत सम्मान की बात थी। भील समुदाय के योगदान मेवाड़ के लिए अविस्मरणीय रहेंगे।

 

4. झाला मन्ना

JHALA MANNA
झाला मन्ना

झाला मन्ना बड़ी सादड़ी से थे। झाला मन्ना हल्दी घाटी के युद्ध में महाराणा प्रताप की तरफ से मुगलों के विरुद्ध लड़े थे। झाला ने हल्दीघाटी युद्ध में अपना पूरा बहादुरी के साथ त्याग समर्पण बलिदान दिया था। जब राणा पूंजा हल्दी घाटी युद्ध में घायल हो गए थे तथा जब उनको युद्ध क्षेत्र से बाहर ले जाया गया था, तब झाला मन्ना ने स्वयं को महाराणा प्रताप के भाँती मेवाड़ के राजमुकुट एवं महाराणा प्रताप के प्रतीक चिन्हों से सजाया एवं निरंतर लड़ाई जारी रखी। झाला मन्ना की चाल कामयाब रही और शत्रुओं ने झाला मन्ना को ही महाराणा प्रताप समझ लिया और उन पर आक्रमण करने के लिए टूट पड़े। इसी भीषण युद्ध को करते-करते झाला मन्ना वीरगति को प्राप्त हुए। वीरगति को प्राप्त होने से पहले ही झाला मन्ना मुगल सेना को पूर्व की ओर पीछे धकेल चुके थे। इनके इसी बलिदान की वजह से महाराणा प्रताप मेवाड़ को मुक्त करवा पाए।

 

5. हकीम खां सूर

Hakim khan suri
  हकीम खां सूर

इनको हकीम सोज खां अफगान के नाम से भी जाना जाता है। ये एक अफगानी मुस्लिम पठान थे, जो महाराणा प्रताप के प्रमुख सैनिक थे। वे महाराणा प्रताप के तोपखाने के प्रमुख हुआ करते थे। हकीम खां हल्दी घाटी के युद्ध में अकबर की सेना के खिलाफ प्रताप की सेना के सेनापति के रूप में रहे। इन्होने महाराणा प्रताप युद्ध में वीरता से युद्ध किया और युद्ध क्षेत्र में ही इनकी मृत्यु हो गई। हकीम खां, सूर वंश शेरशाह सूरी के वंशज थे। ये एक मात्र ऐसे व्यक्ति थे जो मुग़लो के खिलाफ मुसलमान होते हुए भी महाराणा प्रताप की तरफ से लड़े। हकीम खां वीरता, बहादुरी, त्याग, ईमानदारी के अतुलनीय उदाहरण है।

आपको यह लेख कैसा लगा आप हमारी ईमेल आईडी पर बता सकते है- KRATIKASHAH12345@GMAIL.COM

Categories
News

शहर के 5 प्रमुख मार्गों में नो व्हीकल जोन

शहर के 5 प्रमुख मार्गों को हर शनिवार और रविवार शाम 5 से रात 10 बजे तक नो व्हीकल जोन बनाने का सुझाव आया है। इन मार्गों में शामिल जगदीश चौक, घंटाघर, चांदपोल, भट्टियानी चौराहा और रंग निवास क्षेत्र है। इन पांचो जगहों के क्षेत्रवासियों का कहना है कि प्रतिदिन यातायात की परेशानी से यहाँ स्थित सभी क्षेत्रवासियों को असुविधा हो रही है। वीकेंड के समय यह समस्या और बढ़ जाती है, जब पर्यटको की भी आवक होती है। इन क्षेत्रों में तंग गलियों और लोगों की आवाजाही के बीच ऑटो-कारों के चलते आए दिन जाम लगे रहते थे। इस समस्या से निजात पाने के लिए यह तय किया गया की आमजन के सहयोग से इन सभी क्षेत्रों में शनिवार और रविवार वाहनों के आवागमन पर प्रतिबन्ध लगाएंगे। नो व्हीकल जोन के समय में, प्रतिबन्ध क्षेत्र के लिए उन 5 जगहों पर वाहन और एम्बुलेंस को भी तैनात किया जाएगा।
जन चेतना रैली निकालकर लोगों को इसके फायदे बताऐंगे। इस बैठक में शामिल समिति अध्यक्ष दिनेश मकवाना, विनोद पानेरी, गोपाल नागर, राजेश वैष्णव, प्रदीप सैन आदि मौजूद थे।

Categories
Places to Visit

सावन मास में इन मंदिरों में जाना न भूले

सावन का महीना शुरू हो गया है। हिंदू धर्म में सावन के महीने को महादेव का सबसे प्रिय महीना माना जाता है। सावन शुरू होते ही मंदिरों में भक्तों का तांता लगना शुरू हो जाता है। इस पूरे माह में शिव जी की विधि-विधान से पूजा-अर्चना की जाती है, लोग व्रत रखते है, शिवलिंग पर दूध से अभिषेक करते है।

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार सावन माह में महादेव की विधि-विधान से पूजा-अर्चना करनी चाहिए। इससे शिव जी प्रसन्न होते हैं और अपने भक्तों के जीवन के सारे कष्टों को दूर कर देते हैं। इस माह में जो भी जातक सोमवार व्रत रखते हैं और शिवलिंग की आराधना करते हैं, भोले शंकर उनकी सभी मनोकामना पूर्ण करते हैं। सावन के पूरे महीने शिव मंदिरों में भक्तों की खूब भीड़ लगी रहती है। शायद ही कोई मंदिर या शिवालय होगा जहाँ शिव के जयकारे न गूंजते हों। लेकिन क्या आप जानते है हमारे शहर उदयपुर में भी कई सारे ऐसे शिव मंदिर है जो प्रसिद्ध है, जहाँ लोग दूर-दूर से दर्शन करने व भ्रमण करने के लिए आते है। आइए जानते है-

1. महाकालेश्वर मंदिर

mahakaleshwar mandir
महाकालेश्वर मंदिर

उदयपुर का यह मंदिर विश्व भर में प्रसिद्ध है। महाकालेश्वर का यह मंदिर फतहसागर झील के किनारे स्थापित है। इस मंदिर का निर्माण बहुत ही सुन्दर रूप से किया गया है और इस मंदिर की कला-कृतियाँ बहुत ही लुभावनी है। यह मंदिर काफी बड़े क्षेत्रफल में फैला हुआ है, इस मंदिर से फतहसागर झील को आराम से देखा जा सकता है।

कहा जाता है कि यह मंदिर 900 साल पुराना हैं, महाकालेश्वर स्वयंभू (स्वयं प्रकट) हुए हैं। यहाँ भगवान शिव अपने भक्तों को अलग-अलग स्वरूप में दर्शन देते है। सवेरे दर्शन में बाल स्वरूप, मध्यान्ह दर्शन में युवा स्वरूप और सायंकाल दर्शन में वृद्ध स्वरूप लेते है। इन सारे स्वरूपों में भगवान शिव अलग-अलग रंग भी बदलते हैं। शिवरात्रि के दिन मंदिर में लघु रूद्र पूजा होती है। मंदिर में स्थित एक प्राचीन धूनी है, उस मंदिर पर ध्वजा का कार्यक्रम किया जाता है। यह ध्वजा गणपति, भैरव और माताजी की होती है। मंदिर के पास संत भोलेनाथ जी की एक जीवित समाधि भी है।

2. अमरख महादेव मंदिर –

अमरख महादेव मंदिर

हरी-भरी वादियों और पहाड़ियों के बीच बसा अमरख महादेव मंदिर, उदयपुर से करीब 15 किमी दूर अम्बेरी गाँव में स्थित है। यहाँ स्थित चतुर्मुख भगवान शिव की प्रतिमा इतनी निराली है कि मन मोह लेती है। यह मंदिर कई सारे पेड़-पौधों के साथ बहुत बड़ी जगह में फैला हुआ है। मंदिर के पास और भी कई सारे मंदिर है, जिसमें हनुमान जी और माताजी का मंदिर शामिल है। मंदिर के पास दो कुंड है, एक छोटा और एक बड़ा। जिस कुंड से पानी बहता है, उसे गंग कुंड के नाम से जाना जाता है। कहते है की यह कुंड भी गंगा नदी के समान ही है। मंदिर का इतिहास 1500 साल पुराना है पर आज भी इसकी सुंदरता और भव्यता में कोई कमी नहीं है।

कहा जाता है कि प्राचीन समय में अमरीश नाम के एक राजा थे। उन्होंने सभी सांसारिक सुखों को छोड़ कर शिव जी की पूजा करने का निश्चय किया और वे यहाँ आ गए। हर दिन शिवलिंग पर जल चढ़ाने के लिए वे रोज गंगा नदी से पानी लाते थे। गंगा उनकी स्वामिभक्ति देख इतना प्रसन्न हुई की वे राजा के साथ उसी मंदिर में चली गईं और वही स्थापित हो गईं। तब से उस कुंड को गंगा नदी के समान ही माना जाता है।

इस पानी में मछली, कछुए और साँप भी है। इस कुंड के पानी की एक अलग विशेषता बताई जाती है कि भीषण से भी भीषण काल आ जाए पर यह पानी कभी भी सूखता नहीं है। साथ ही इस मंदिर का पानी कभी घटता और बढ़ता भी नहीं है। मंदिर में पत्थर पर हस्तकलाओं द्वारा कई आकृतियों से मंदिर को रूप प्रदान किया गया है। मंदिर परिसर में कई सारे हवन कुंड भी हैं, जहां श्रद्धालु भक्ति भाव से हवन और यज्ञ करते है। यह मंदिर राजा हरिश्चंद्र के पूर्वज राजा महर्षि अमरीश ने बनवाया था।

मंदिर की प्रतिमा के चार मुख है – 1.पूर्व दिशा – सूर्यमुख  2.उत्तर दिशा -इंद्र मुख  3.पश्चिम दिशा -विष्णु मुख  4. उत्तर दिशा- शिव मुख। शिव मुख के ही तीन अभिनेत्र है और उसे मुख पर गणपति, माँ गौरा और कार्तिकेय विराजमान है। यह विश्व की एकमात्र ऐसी प्रतिमा है जिसमें ये तीनों विराजमान है बाकि मंदिरों में सभी प्रतिमाएं दूर-दूर स्थापित होती है।

3.गुप्तेश्वर महादेव मंदिर

guptesshwar mahadev
गुप्तेश्वर महादेव मंदिर

गुप्तेश्वर महादेव उदयपुर शहर से 10 किमी दूर तितरड़ी गाँव में स्थित है। गुप्तेश्वर महादेव पहाड़ियों के बीच एक गुफ़ा में बसें हैं, जहाँ सिर्फ पैदल ही जा सकते है। मंदिर में एक शिवलिंग है, जो आदिकाल से यहाँ स्थित है और यह स्वयंभू शिवलिंग है। यह मंदिर काफी अद्भुत है। यह मंदिर पहाड़ियों पर स्थित है और पूरी तरह गुफा के अंदर बना हुआ है। इस मंदिर की गुफा तक पहुँचने के लिए करीब 1300 मीटर ऊँची पहाड़ी की चढ़ाई करनी पड़ती है।

कहते है कि 1962 में गुरुदेव ब्रज बिहारी जी महाराज ने गुप्तेश्वर जी की प्रतिमा स्थापित करवाई थी। गुरुदेव ब्रज बिहारी जी 1951 में उदयपुर आए थे। गुरुदेव को सपने में आभास होता था की कोई स्थान है, जो उन्हें अपनी तरफ खींच रहा है।

उदयपुर आने के बाद उन्होंने कई जगहों पर भ्रमण किया तब उन्हें पता चला की यहाँ कोई ऐसी गुफा है। यहाँ आने पर उन्हें ऐसा एहसास हुआ कि वो यहाँ पहले भी आ चुके है,उसके बाद गुरूजी वहीं रहने लगे।

कार्तिक पूर्णिमा कि रात को उन्हें ऐसा आभास हुआ की उन्हें कोई बुला रहा है, उन्हें लगा कि गुफा में जाना चाहिए। वो अंदर गए, वहां उन्हें एक धूनी दिखाई दी तब उन्हें यह संकेत मिल चुका था की पहले से कुछ महात्माओं ने यहाँ खूब भजन कर रखा है। गुरूजी ने तभी धूनी को चेतन कर दिया और कठोर तप करने लगे। उसके बाद ही गुरु जी ने यहाँ महादेव जी की मूर्ति स्थापित की और उसके बाद से ही मेले का आयोजन किया जाने लगा। इस गुफा का रास्ता प्राकृतिक है, यह गुफा इस तरह से बनी है जो सर्दियों में गरम रहती है और गर्मियों में ठंडी रहती है।

4. कुकड़ेश्वर महादेव मंदिर

कुकड़ेश्वर महादेव मंदिर

उदयपुर से 22 किमी दूर यह मंदिर स्थित है। इस इलाके से गुजरने पर ग्रामीण संस्कृति को देखा जा सकता है। मंदिर जाते समय रास्ते में कई सारी सुन्दर पहाड़ियां देखने को मिलेगी। मंदिर के रास्ते में एक 400 साल पुराना जलाशय भी है जो मानव निर्मित है। यह जलाशय लखावली गाँव में स्थित है। मंदिर जाते समय रास्ते में जो पहाड़ियां आती है, इन्ही पहाड़ियों में महाराणा प्रताप ने युद्ध किए थे और मुगलों को परास्त किया था।

मंदिर का नाम कुकड़ेश्वर है, इसके पीछे भी एक कहानी है। कहते है कि जब मेवाड़ पर मुग़लों ने हमला किया था तब महाराणा प्रताप कुछ समय के लिए यहाँ रुके थे। जब महराणा प्रताप विश्राम कर रहे थे तब उनके कान में मुर्गे की बांग सुनाई दी और आक्रमण का सामना करने के लिए सतर्क हो गए। मुर्गे की बांग कहाँ से आई थी इसका कोई तथ्य आज भी नहीं मिला, लेकिन यहाँ के लोगो का मानना है कि यह स्वयं शिवजी थे जिन्होंने मुर्गे की आवाज में बांग देकर महाराणा प्रताप को संकेत दे कर सतर्क किया था।

5. झामेश्वर महादेव मंदिर

झामेश्वर महादेव मंदिर

यह मंदिर उदयपुर से 25 किमी दूर है। कहते है की ये मंदिर उदयपुर की स्थापना से भी पहले का है। यहाँ लोग दूर दराज से आस्था रख कर दर्शन करने आते है। यहाँ महादेव जी का चमत्कार बहुत प्रसिद्ध है। कोई भी व्यक्ति यहाँ अपनी मनोकामना के साथ आता है और महादेव जी के आगे दो पर्ची रखता है। एक में हाँ दूसरे में ना की पर्ची। जिस पर्ची पर फूल आकर गिरता है वहीं मान्यता होती है और वहीं काम सिद्ध होता है।

झामेश्वर जी की पहाड़ियों पर स्थित ऐतिहासिक कालका माता मंदिर भी है। कहा जाता है की महाराणा उदय सिंह जी ने कालका माता मंदिर से ही उदयपुर की स्थापना की थी। उदय सिंह जी जब भी कुछ कार्य का निर्माण करने जाते तो किसी अनहोनी की वजह से वो बना बनाया निर्माण अपने आप ही गिर जाता।

तब किसी ने उदय सिंह जी को सलाह दी कि अगर आपको उदयपुर शहर बसाना है तो कालका माता मंदिर से एक खरगोश निकलेगा और उस खरगोश का शिकार कीजिए। शिकार के बाद जहाँ भी वो खरगोश गिरेगा बस वहीं से आप उदयपुर की स्थापना शुरू कीजिए, यह करने से आपके सभी कार्य बनने लगेंगे । उदय सिंह जी न ऐसा ही किया और इस तरह उदयपुर शहर का निर्माण हुआ।

यह है उदयपुर के कुछ प्राचीन और प्रसिद्ध मंदिर जहाँ लोग श्रद्धा विश्वास और भक्ति के साथ आते है और अपनी मनोकामनाओं को पूर्ण करते है। मंदिर दर्शन के साथ यहाँ कई सारे लोग घूमने-फिरने भी आते है। अब सावन चल रहे है, तो आप भी अवश्य ही इन मंदिरों में भक्ति भाव से जाए और महादेव से अपनी हर मनोकामनाए पूर्ण करवाए और भगवान के दर्शन का लाभ उठाए।

आपको यह लेख कैसा लगा हमारी ईमेल आईडी पर जरूर बताए – kratikashah12345@gmail.com

 

Categories
News

बड़ीसादड़ी-मावली ट्रैन का शुभारम्भ

बड़ीसादड़ी-मावली ट्रैन का शुभारम्भ रविवार को हो चुका है। इस ट्रैक का लोकार्पण रविवार को रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने किया। बड़ीसादड़ी से उदयपुर की पहली ट्रैन को झंडी दिखाने के साथ ही फेरे बढ़ाने की घोषणा की गई। रेल मंत्री ने बड़ीसादड़ी-उदयपुर ट्रैन के दिन में दो फेरे करने की घोषणा की है। इसके साथ ही समारोह में रीवा-उदयपुर वीकली स्पेशल और सिउड़ी-सियालदह ट्रैन की भी शुरुआत की गई। कार्यक्रम के दौरान रेल मंत्री ने दो और ट्रेनों को झंडी दिखाई। इस दौरान भिंडर रेलवे स्टेशन पर स्वागत करने भारी मात्रा में जन सैलाब की मौजूदगी रही। सांसद सीपी जोशी ने कहा कि बड़ीसादड़ी-नीमच रेल लाइन तीन साल संघर्ष के बाद मिली है। अगर इसी का कार्य एक साल में हो जाए तो उदयपुर का जुड़ाव सीधा नीमच के रास्ते मुंबई से हो जाएगा।
कार्यक्रम में मौजूद –
बड़ीसादड़ी स्टेशन पर कार्यक्रम में विधानसभा प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया, उदयपुर ग्रामीण विधायक फूल सिंह मीणा, चित्तौडगढ़ के सांसद सीपी जोशी, पूर्व सांसद श्रीचंद कृपलानी, बड़ीसादड़ी विधायक ललित कुमार ओस्तवाल इसके साथ दूसरे और भी कई सारे अथितिगण मौजूद थे।
अंतर्राष्ट्रीय रेल मार्ग का जिम्मा सौंपा –
सिटीजन सोसाइटी ने रेल मंत्री को उदयपुर आने का न्योता देते हुए उदयपुर-सिंगापुर अंतरराष्ट्रीय रेल मार्ग के विज़न के लिए दस्तावेज सौंप दिए है।अध्यक्ष क्षितिज कुम्भट, सदस्य तुषार मेहता, सुनील लड्ढा भी वह मौजूद थे। उन्होंने वर्ष 2001 में स्वाधीनता सैनानी हुकुमराज मेहता की ओर से तैयार लंदन-सिंगापुर-कोलकत्ता रेललाइन विज़न की जानकारी दी। उदयपुर से सिंगापुर के बीच बुलेट ट्रैन से जोड़ने का आग्रह किया।

इसके साथ ही डबोक एयरपोर्ट पर रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने मेवाड़ी में बात की, साथ ही उन्हीने ट्विटर पर उदयपुर के लिए मेवाड़ी भाषा में लिखा कि “महाराणा प्रताप री, भामाशाह री, स्वतंत्रता संग्राम री, मीरा री धरती, असि त्याग तपस्या री वीरभूमि उदयपुर ने म्हारो घणो-घणो नमन।

Categories
People Social

उदयपुर का नाम लहराया विनम्र ने, हासिल की AIR 11

मेहनत एक ऐसा शब्द है, जिसके बारे में केवल वही इंसान जानता है, जिसने असल में मेहनत की होती है। मेहनत करना भी एक कला है, इसे हर कोई नहीं कर सकता है। किसी भी कार्य को करने के लिए मेहनत लगती है और मेहनत ऐसी होनी चाहिए जो हर असंभव को संभव कर दे।
ऐसे ही हम बात करते है “चार्टर्ड अकाउंटेंट” जिसे आमतौर में छोटे से शब्द CA नाम से भी जाना जाता है। यह एक ऐसा प्रोफेशनल है, जो अर्थव्यवस्था के विभिन्न क्षेत्रों में काम करते है। एकाउंटेंसी और ऑडिटिंग, CA के दो सबसे महत्वपूर्ण कार्य है। इसके अलावा CA का काम वित्तीय लेखा-जोखा तैयार करना, वित्तीय सलाह देना।

कहते है की CA की परीक्षा बहुत ही कठिन होती है, दिन रात मेहनत करने के बाद भी पास होना मुश्किल है। ऐसे ही मेहनत का एक जीता जागता परिणाम हमारें शहर उदयपुर के “विनम्र काबरा” है। जो इस परीक्षा में सफल तो हुए ही है पर साथ में उच्च स्कोर भी हासिल किया है। उदयपुर शहर का नाम गौरवान्वित किया है। विनम्र ने उदयपुर की रैंकिंग में टॉप किया है और आल इंडिया में 11वीं रैंक हासिल की है, जो हमारे शहर के लिए बहुत ही गर्व की बात है।

विनम्र काबरा

विनम्र अपनी यात्रा के दौरान पहले भी टॉप रैंकों में रह चुके है। उन्होंने CA-CPT परीक्षा में AIR-3 हासिल की थी और CA इंटरमीडिएट परीक्षा में AIR- 24 हासिल की थी। ICAI की ओर से आयोजित CA फाइनल परीक्षा में कई सारे विद्यार्थि भाग लेते है, इसमें से कुछ ही पास हो पाते है। परीक्षा में उदयपुर सेंटर के कुल 647 परीक्षार्थियों ने भाग लिया जिसमें से 175 उतीर्ण रहे।

विनम्र पढाई में बचपन से ही होशियार रहे है। उन्होंने अपने स्कूल वक्त में भी अच्छे परिणाम दिए है, उन्होंने 12वीं कक्षा में भी 97% हासिल किए थे। विनम्र ने अपनी सफलता का श्रेय भगवान, अपने परिवार और बडाला कोचिंग क्लास को दिया है।

क्या सफलता पाना आसान है ? सफलता पाने के लिए खून पसीना एक करना पड़ता है। दिन भर की मेहनत और रात भर जाग-जाग कर पढ़ना, हर व्यक्ति के बस की बात नहीं है। जो कड़ी मेहनत करता है, निश्चय ही सफलता को उसके पास आना ही पड़ता है। सफलता कोई ऐसी चीज नहीं है, जो एक दिन में हासिल हो जाए।

एक अंग्रेज़ी कहावत है “Practice makes a man perfect”. इसका अर्थ है कि अभ्यास ही मनुष्य को उत्तम बनाता है।  यह कहावत एक दम सही है, की मनुष्य एक दिन में महान नहीं बनता है, उसके पीछे कई सालो की मेहनत, कठिन प्रयास, कड़ी मेहनत, दृढ- निश्चयी, धैर्य और लगन होती है। मनुष्य को पूरी तरह आलस्य त्याग देना पड़ता है।
अगर सफलता के शिखर पर पहुँचना है, तो कड़ी मेहनत करनी ही होगी। विनम्र का नाम आज इसलिए लहरा रहा है, क्योंकी इसके पीछे उनकी कई सालों की मेहनत है। इसी प्रकार हमें भी जीवन में मेहनत करनी ही चाहिए।

Categories
News

उदयपुर का महाराणा प्रताप एयरपोर्ट इस साल भी टॉप पर

शहर उदयपुर, उपलब्धि के मामले में आए दिन चर्चा में है, अब शहर ने अपने नाम पर एक और खिताब जुड़वा लिया है। शहर का महाराणा प्रताप एयरपोर्ट अब देश का टॉप एयरपोर्ट बन गया है। उदयपुर ने ग्राहक संतुष्टि के मामले में यह उपलब्धि हासिल की है। इसने जनवरी से जून 2022 के सर्वे रिपोर्ट्स में पहला स्थान पाया है। इस से पहले भी शहर ने एयरपोर्ट सूची में, वर्ष 2020 और वर्ष 2021 में प्रथम स्थान पाया था। महाराण प्रताप एयरपोर्ट अब देश का टॉप एयरपोर्ट बन गया है।

भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण की ओर से निर्धारित सर्विस क्वालिटी मापदंडों के अनुसार, साल में दो बार ग्राहक संतुष्टि सर्वे करवाया जाता है। उदयपुर अथॉरिटी ने देशभर के कुल 55 एयरपोर्ट का सर्वे कराया। इसमें उदयपुर व रायपुर को सबसे अधिक अंक मिले जो 4.99 थे। इस सूची में दूसरा स्थान पोर्टब्लेयर और तीसरा स्थान संयुक्त रूप से जामनगर, भोपाल व जम्मू एयरपोर्ट को मिला। इस सूची में जोधपुर को 10वां स्थान मिला है। किशनगढ़ को 28वां, बीकानेर को 37वां स्थान और जैसलमेर को 40वां स्थान।

महाराणा प्रताप एयरपोर्ट, निदेशक नंदिता भट्ट का कहना है कि ये केवल उदयपुर एयरपोर्ट की ही नहीं बल्कि पूरी टीम की उपलब्धि है। इसे हासिल करने के लिए शहरवासियों ने यहां के प्रशासन, नगर निगम आदि का भी पूरा सहयोग रहा है। कोविड के बाद कहीं तरह की चुनौतियां थी, लेकिन पैसेंजर्स का विश्वास फिर से हासिल किया। इसी का नातिज़ा यह है कि उन्होनें एयरपोर्ट को हर स्तर पर नंबर 1 रखा।

इस सर्वे में कईं मापदंड थे जो इस प्रकार है

  • बैंक
  • ATM
  • ट्रॉली सुविधा
  • WI-FI
  • बिजनेस
  • शिष्टाचार
  • निरिक्षण
  • चेक इन लाइन
  • इंटरनेट एक्सेस
  • इंटरनेट सुविधा
  • सुरक्षा कर्मचारी
  • खाने की सुविधा
  • सुरक्षा और संरक्षा
  • एक्सेसिटीव लाउंज
  • वॉशरूम सुविधा
  • खरीदारी की सुविधा
  • परिवर्तकों की उपलब्धता
  • हवाई अड्डे की स्वच्छता
  • बैगेज डिलीवरी की स्पीड
  • एयरपोर्ट का वातावरण
  • सुरक्षा निरिक्षण में समय से प्रतीक्षा की उपलब्धता

देश के टॉप 10 एयरपोर्ट और उनके स्कोर-
1. उदयपुर व रायपुर – 4.99
2. पोर्ट ब्लेयर – 4.98
3. जामनगर,भोपाल,जम्मू – 4.96
4. मदुरै, तिरुपति – 4.93
5. राजकोट,देहरादून – 4.92
6. भुंतर, गया- 4.90
7. विजयवाड़ा- 4.88
8. गग्गल, पोरबंदर – 4.86
9. जोधपुर- 4.82
10. राजमुंद्री- 4.81