Categories
Travel

India’s Golden Triangle – Why it Is Worth Visiting

India’s glorious past and amazing geography touch the soul of all travellers in some way. India has a wealth of amazing culture, landscapes and wildlife. Its architecture and art are preserved from the past and attract tourists from all around the globe. Tourists love the Golden Triangle because it gives them a glimpse into India’s rich and vibrant culture.

What is the Golden Triangle of India?

These cities are known collectively as the Delhi-Agra–Jaipur circuit. They actually form a triangle on the map. The Golden Triangle itinerary will capture and attract travellers with its stunning Mughal architecture, from the TajMahal (Agra) to the Amber Fort (Jaipur) or Rajput grandeur in Jaipur. A wildlife sanctuary or Tiger Safari visit is the best addition to any Golden Triangle tour package. This guide will help you plan your Golden Triangle India trip.

The Golden Triangle’s Best Time to Visit

When the temperature is between 22 and 32 degrees, October through April is the best time to plan a Golden Triangle of India Tour. Due to the heat and temperatures of 45°, travelling around these areas after April in May or June can prove difficult. The trip can be booked anytime between February and March, as freezing spells are possible in Delhi and other places around the country during December and January.

It is a joy to see the festivals in March, October, and November. However, it is important to be aware that tourist areas can get busier during these months. You can find the Golden Triangle tour package in Ranthambore with a tiger safari. However, you should avoid the hot season.

How to choose the right guide and driver

Book your Golden Triangle Tour Package in India with Tiger Safari India to ensure you have the right companion and guide who will help you enjoy the best parts of the trip. Tourist attractions can be very crowded. You might encounter people selling or asking for money. They can be avoided by hiring a tour guide. They will also ensure you get the most important stories and details about the places you visit.

Food and Accommodation during the Tour

Foodies will love the Golden Triangle. You can sample a wide range of delicious dishes, with each region offering its own unique flavours.

You can check the ratings and services of Indian hotels before you make your booking. You should choose at least three to four-star hotels and not compromise on quality in exchange for a lower price. If hygiene is a concern, you might opt for five-star hotels.

Things to do on the Trip

It is important to be responsible while travelling. This will ensure that you make the most of your trip, keep safe, and have a positive effect on the culture and people of the destination. Before you plan a trip to The Golden Triangle, here are some things to keep in mind.
● Make sure you have travel insurance before you travel.
● Sunscreens and sunglasses are essential in all climates.
● You should always bring your own water bottles, even though tap water has been treated or sterilized. Ask your tour operator for large water containers to refill your bottles.
● Avoid touching stray animals, as they may have rabies.
● Avoid fruit without a peel. Coconut water is safe.
● Avoid travelling alone in isolated areas and avoid travelling by public transport alone, especially after dark.

You must visit these places

These are the places you should not miss when visiting India’s Golden Triangle.

1) Delhi

● Humayun’s Tomb: The first Indian garden tomb was built in 1579. It is also a UNESCO World Heritage Site.
● Old Delhi: Discover India’s street food capital, and enjoy the Indian flavours. It is crucial to avoid the unwelcome Delhi belly.
● India Gate: You can take a stroll around the 42-metre high India Gate, which was built to honour the lives of thousands of Indian soldiers who died in World War I.
● Gurudwara Bangla Sahib Sikh Temple: This place can be incredibly inspiring and soothing. Most Sikh temples offer free meals, regardless of caste, creed or social status.

2) Agra

● The Taj Mahal: The beauty of the TajMahal, built between 1631-1648, cannot be described in words. This iconic masterpiece is also known as the seventh wonder of all time.
● Agra Fort: Built in red sandstone, the Agra Fort was built with white marble. It was once home to emperors up until 1638.
● The Mausoleum of Emperor Akbar: Jahangir, Akbar’s son, built this architectural wonder on 119 acres of Sikandra

3) Jaipur

● Amber Fort and Amber Palace: The Amber Fort and Amber Palace are stunning examples of Rajasthani architecture that you can review. They were once the homes of Rajputs as well as Maharajas.
● Fort Nahargarh: The Nahargarh Fort can be found on the edge of Aravalli Hills, overlooking the pink city.
● Hawa Mahal: Maharaja Sawai Pratap S built the five-storey structure to allow royal women to see the city and processions.
● GaltaJi: It is a pilgrimage site for Hindus and is often called the Monkey Temple.

The most sought-after tourist route in India is the Golden Triangle. This is an incredible experience that will last a lifetime. It is normal to feel anxious, but Tiger Safari India will make sure you have an unforgettable experience.

Categories
Places to Visit

Top 5 Places to Visit in Rajasthan in December

Planning a trip with your loved ones this December? How does Rajasthan sound? An absolute delight, I’m sure!

Rajasthan is one of the best places to visit in India, and with good reason too! There’s a lot to enjoy here for people of all ages: ancient temples, historical forts, beautiful lakes, colorful bazaars, traditional music and folk dance, appetizing cuisine, and so much more. And, of course, who can forget the majestic Thar desert?

People who want to unwind and enjoy the beauty of nature, or people seeking thrill and adventure: Rajasthan will definitely not disappoint you.

The ideal time to visit Rajasthan is during the months of October to March. Compared to the sweltering heat in the summer, these months are accompanied by a slight chill in the air. Daytime temperatures (about 30° C) make travel significantly easier. The nights can go as low as 13° C – cool, but not unbearably cold.

Here are the top 5 places we recommend you to visit on your trip to Rajasthan this December. Get a chance to visit these places, and more, with Thrillophillia Rajasthan tour packages!

Mount Abu

Mount Abu, the only hill station in Rajasthan, is a must-see for anyone planning a trip to Rajasthan Also known as the summer capital of Rajasthan, Mount Abu is located in the Sirohi district. It is placed amongst the lush green hills of the Aravali range. Mount Abu’s cool climate makes it an ideal destination for all travelers. What’s more, there’s a lot to see at Mount Abu: Nakki Lake, Adhar Devi, Dilwara Jain Temples, Achalgarh fort, and many more places. Tourists can also visit the animal sanctuary and admire the beautiful leopards, wild boar, langur, etc.

Jaisalmer

Jaisalmer, the ‘Golden city’ of Rajasthan, is a major tourist destination of the state. The city got its name from the golden dunes and castles made from golden honey sandstone. A beautiful sight for anyone availing the Rajasthan vacation ! There’s a lot to see here for all who visit, including ancient havelis, Jain temples, Jaisalmer Fort, and many lakes. What’s most attractive about Jaisalmer, however, is the desert experience. Hop onto a camel and take in the sandy dunes. The several camps on the deserts provide you with traditional Rajasthani cuisine and traditional music and dance. An unforgettable sight for anyone!

Udaipur

Rajasthan trip ensures you do not miss out on the beautiful city of Udaipur. Also known as the Venice of the Easy by many, Udaipur has that wonderful romantic feeling to it. With a backdrop of the Aravali hills around it, there are many lakes to see here. Lake Pichola is a must for anyone visiting the city – feature in many Bollywood movies, too. Take a boat ride on the lake and witness the beauty of nature. There are many havelis, temples, and palaces, for tourists to see. If you’re still not satiated, the colorful bazaar will surely wow you.

Jaipur

Popularly called the Pink City, Jaipur is India’s first planned city and the capital of Rajasthan. It is one of the three cities that make up the Golden Triangle, along with Delhi and Agra, and is a destination in the Rajasthan Tour. Spacious gardens, pink houses – the city has one of the richest histories and cultures in all of India. The bazaars of Jaipur are popular amongst tourists for the plethora of jewellery, shoes, and rich fabrics that they offer for sale. Forts Nahargarh, Jaigarh, and Garh Ganesh Temple are some of the few tourist spots that are a must-see.

Kumbhalgarh Fort

Everyone has heard of the Great Wall of China. Second to that is our very own wall in India – Kumbhalgarh Fort! This 3600ft tall and 38km long majestic fort surrounds the city of Udaipur. Located on the western Aravali hills, the fort has been declared a UNESCO World Heritage Site. This fort is also said to be the birthplace of the legendary Maharana Pratap. Many Jain and Hindu temples are present within the fort. The Badal Palace, Shivalinga Temple, and Kumbhalgarh Sanctuary should all be visited.

Categories
Social

जानिए कैसे साँची ग्रुप ने बनाए सबके सपनो के घर

हमारी ज़िन्दगी में कई दौर ऐसे आते हैं जहाँ हमारी ख़ुशी का कोई ठिकाना नहीं होता। और उन खुशियों में जब परिवार का साथ होता है, तो बात ही कुछ और होती है। फिर चाहे वो हमारी पहली नौकरी हो या हमारा पहला घर। ऐसे ही जीवन में खुशियों को भरने के लिए साँची ग्रुप ने एक शुरुआत की थी।

अक्सर लोगों के मन में ख्याल आता है कि वे किसी ऐसी जगह घर बनाए जो शहर के बीच हो। अस्पताल की सुविधाओं के साथ बच्चों के लिए स्कूल और बड़े-बूढ़ों के लिए पार्क की सुविधा भी हो। पर हर किसी का ये सपना सच नहीं होता। घर बनाने के समय कई अड़चने आती हैं। पर उन अड़चनों से आगे बढ़कर अपने सपने की और अग्रसर होना ज़रूरी है।

पर शहर के बीच, सब सुख-सुविधाओं के मध्य घर बनाना आसान है क्या? ऐसे में, साँची ग्रुप ने उदयपुर के उस जगह पर, जिसका बहुत लोगों ने आज तक नाम भी नहीं सुना होगा, वहां पर एक आशियाना बनाने की उम्मीद जगाई। कलड़वास उदयपुर शहर के उन क्षेत्रों में से एक है जो शहर के बाहर है।

लोगों के लिए ये सोचना मुश्किल है कि यहाँ पर आवास किया जा सकता है। कलड़वास उदयपुर शहर कि सीमा पर स्तिथ एक गाँव है जहाँ पर लोग तो रह रहे थे, पर दूसरी चीज़ें मिलना मुश्किल था। इसीलिए आज भी साँची ग्रुप के पास कई ऐसे लोग आते हैं जो ये सवाल करते हैं कि कलड़वास ही क्यों ?

कलड़वास में गत वर्षो में सरकार द्वारा विकास के अनंत कार्य किये गए हैं। इसका जवाब देने में सहायक निम्न बातें हैं।

school in kaladwas, udaipur

शिक्षा हम सभी के जीवन में एक महत्त्वपूर्ण दायित्व निभाती है। परिवार के हर बड़े का यही सपना होता है के उनके बच्चे पढ़-लिखकर अपना नाम बनाएं। और एक घर खरीदने से पहले उनका यही ख्याल होता है कि वे ऐसी जगह घर बनाएं, जहाँ शिक्षा को किसी भी रूप से आपत्ति या नुकसान न हो। बच्चो की शिक्षा को मद्देनजर रखते हुए यहाँ पर हिंदी व अंग्रेजी दोनों ही माध्यमों के विद्यालय एवं महाविद्यालय के निर्माण किये गए, जिससे बच्चो के विद्यालय आने और जाने में लगे समय की बचत होगी।

Cricket Stadium in Udaipur

क्रिकेट हमेशा से ही सभी का पसंदीदा खेल रहा है। फिर चाहे कोई छोटा बच्चा हो या बड़ा व्यक्ति, पुरुष हो या महिला, क्रिकेट हम सभी को एक करता है। और इससे अच्छी बात क्या हो सकती है कि क्रिकेट प्रेमियों के लिए कलड़वास में क्रिकेट स्टेडियम भी बन रहा है। इतना ही नहीं, बच्चों एवं बड़ों के मानसिक एवं शारीरिक विकास के लिए यहाँ पर पास ही में खेल का मैदान भी है।

hospitals and infrastructurein kaladwas

बढ़ती आबादी को देखते हुए सरकार भी यहाँ विकास के पन्ने पलट रही है। स्वास्थ सुविधाओं को ध्यान में रखते हुई यहाँ पर अस्पतालो के भी निर्माण हो रहे है। औद्योगिक क्षेत्र के पास होने से यहाँ पर रोजगार को देखते हुई कई कंपनियों के ऑफिस भी हैं।

साथ ही रोड नेटवर्क से संपर्क को स्थापित करने के लिए यहाँ पर 6 लेन रोड भी बन रही है। ज़ाहिर है कि जहाँ से सड़क कनेक्टिविटी आज के समय के लिए एक आवश्यक सुविधा है। चाहे हमें काम पर जाना हो, अस्पताल जाना हो, या बच्चों की सुरक्षा की बात हो, 6 लेन हर रूप में सहायक है।

हर इंसान का सपना होता है कि वो अपने परिवार के साथ सब सुख-सुविधाओं के बीच रहे। और साँची ग्रुप ने हर उस इंसान का सपना पूरा करने कि ठानी है। कलड़वास में अपनी प्रॉपर्टी बना कर साँची ग्रुप ने लोगों कि मुश्किलें हल करने कि कोशिश कि है। घर बनाना आसान बात नहीं, ये हम सब जानते हैं। उसमे लग रहा समय, सामान, और पैसा तीनो ही बहुत कीमती है।

और सबके लिए आसान नहीं कि वे उतना समय निकाल पाएं। ऐसे उन सभी लोगों के लिए, जिन्हें घर बनाने में तकलीफों का सामना करना पड़ रहा है, उनके लिए एक आसान तरीका खोज निकला है। साँची ग्रुप कि प्रॉपर्टी पूर्ण रूप से सुख-सुविधाओं से सुसज्जित है।

साँची ग्रुप उम्मीद करता है कि वो कलड़वास में भी घर बनाकर लोगों को ग्रामीण क्षेत्र के विकास कि ओर अग्रसर करे। साँची ग्रुप के अधीन ड्रीम हाउस, घर-आँगन और विलाज , जैसी प्रोपर्टियां हैं। आइये जानते हैं, इन प्रॉपर्टीज में क्या है।

1. घर-आँगन

साँची ग्रुप के सभी प्रोजेक्ट्स में से सबसे पहले आता है घर-आँगन। सभी 1680 घरों के नक्शों को इस प्रकार बनाया है कि रौशनी और हवा कि आवाजाही रहे। सभी घरों से बाहर कि सुंदरता और हरियाली का खूबसूरत नज़ारा दिखाई पड़ता है।

2. ड्रीम हाउस

 

ड्रीम हाउस यानि सपनो का घर। और साँची ग्रुप ने इस प्रोजेक्ट से सभी को किफायती दामों पर अपने सपनो का घर लेने कि उम्मीद दी है। आस-पास हरियाली और अरावली कि वादियों के साथ यहाँ घर लेने के कई फायदे हैं।

3. साँची विलाज

विलाज 3BHK डुप्लेक्स फार्महाउस प्रोजेक्ट्स हैं। शहर कि भाग-दौड़ से कुछ ही दूर, यहाँ रहने का अलग अनुभव है।

एक मकान को घर बनाने के लिए परिवार के साथ साथ मकान बनाने वाले कि अच्छी नियत कि भी ज़रूरत होती है। साँची ग्रुप का यही मानना है कि मकान बनाने के साथ-साथ आस-पास के क्षेत्रों में विकास हो, लोगों का कल्याण हो, और सभी को अपने सपनो का घर मिले।

यदि आप भी चाहते हैं कि आपका घर आपके सपनो का हो, तो अभी +91 9829281423 पर फ़ोन लगाइये ओर जानिए साँची ग्रुप कि प्रॉपर्टी में इन्वेस्ट करने के फायदे।

Categories
News

Udaipur’s Kanwarpada Higher Sec School Completes 100 Years!

With so many positives that we hold, we have one more addition that a very few people know about. Along with the pride that we carry in the beauty of our lakes, ethnicity of our monuments, and luxury of our culture, Udaipur also stands strong in terms of education.

The most famous government school in Udaipur, Kanwarpada Higher Secondary School, has completed 100 years today. Government schools in Rajasthan have always been looked down upon by many for some reasons. But Kanwarpada School has broken all the prejudices. It has been imparting quality education to students from all over the region.

It is not a matter of one or two years or even a decade, it is 100 years that Kanwarpada School has been standing with pride, educating hundreds of scholars everyday. We cannot be anything but proud.

Established a century ago, it has seen a lot of developments in terms of education. Since its inception, it has contributed well to the fields of Business, Science, Medicine, and so much more. Today, it completes a century of its existence.

In the year 1921, Mewar princely state started the first class in Kanwarpada Mahal in Udaipur. The school was then upgraded to Primary in 1935, Secondary in 1955, Upper Secondary in 1958, and Senior Secondary in 1988.

Listening to it would tickle your hearts, but it is the alma mater of five generations of some families in Udaipur. It is situated in the old city region. Along with the history, it is also a great symbol of ancient architecture.

Alumni who created History-

Hundred years of its existence, so it is evident that there will be an excellent base of alumni. The students who have proudly passed out from the institution not only in the state or the country but also across the world. Some of them are mentioned below.

  • Madhusudan Sukhwal, Businessman, Paris
  • Dr Keerti Jain, Cancer Specialist, America
  • Bhupendra Soni, Businessman, America
  • Dr Jeevanlal Mathur, First MBBS from Rajasthan
  • HV Paliwal, Director, Hind Zinc
  • Kailash Meghwal, Speaker of the Assembly
  • BP Bhatnagar, Vice Chancellor, Vidyapeeth
  • Umashankar Sharma, Vice Chancellor, MPUAT
  • BL Khamesara, MD, JVVNL
  • Dr Parmendra Dashora, Vice Chancellor, Kota University

The success stories of the ex-students spread from the corners of Udaipur to Paris and even America. Also, the students of the school are so attached that they have even created a committee for the pupils who have passed the institution.

Once a principal of the Kanwarpada School tells that five generations of his family have studied from this school itself. In fact, four of those generations have been appointed as the teachers as well.

In the end

Everything about Kanwarpada holds a special place in the hearts of Udaipurites. Ever since the school has started its first class, it has contributed to the betterment of the city as well as the country.

There are only a few institutions who can produce multi-talented kids who make their alma mater proud. And indubitably, Kanwarpada is one of them. With students who have made all of us proud throughout all these years, it has given us a lot to cherish.

Information Source- Rajasthan Patrika

Categories
People

जानिए कैसे तीन महिला अफसरों ने कोरोना के दौर में पर्यटन, संस्कृति, एविएशन से दिलाई उदयपुर को नई पहचान

“अपने को कमजोर न समझो जननी हो सम्पूर्ण जगत की,
गौरव हो अपनी संस्कृति की आहट हो स्वर्णिम आगत की,
तुम्हें नया इतिहास देश का अपने कर्मो से रचना है”

महिलाओं के लिए जितना कहा जाए, उतना कम है। चाहे वो घर की डोर हो, या संसार की बागडोर, ये महिलाएं ही है जिन्होंने सब कार्यों को सफलता पूर्वक करने में कोई कसर बाकी नहीं रखी। महिलाओं के लिए कोई एक दिन खास नहीं होता, हर दिन खास महिलाओं से होता है। और इस बात का प्रतीक है उन्नति करता हुआ हमारा देश और प्रदेश।

छोटे से लेकर बड़े, हर कार्य में औरतों ने अपना शत प्रतिशत योगदान दिया है। ये नज़र आता है आज के इस लेख में। हमारे उदयपुर शहर की सुपर नारी ने कितने ही असंभव काम संभव किये है। आइये जानते हैं, उदयपुर की समृद्धि में योगदान देने वाली ये महिलाएं कौन हैं।

उदयपुर और पर्यटन का नाम अक्सर साथ लिया जाता है। देश विदेश के कई लोग हर साल यहाँ आकर अद्भुत अनुभव, प्राचीन सुंदरता, और झीलों की खुशबू अपने साथ ले जाते हैं। पर्यटन ने उदयपुर को एक नई पहचान दी है। हालाँकि कोरोना के समय उदयपुर को काफी नुकसान भी हुआ था।

पर्यटकों के आने पर पाबन्दी तथा कई जगहों पर आने जाने पर रोक से देशी पर्यटक भी उदयपुर नहीं आ सके थे। लेकिन ऐसे कठिन समय में भी उदयपुर की महिला शक्ति ने अपने आप को काबिल साबित करते  हुए एक नई मिसाल कायम की है। उदयपुर की समृद्धि के तीन स्तम्भ पर्यटन, संस्कृति, और एविएशन हैं।

इन्हीं तीन स्तम्भों को सँभालने वाली उदयपुर की सुपर वुमन ने ऐसे चमत्कार किया के उदयपुर टूरिज्म ने रिकॉर्ड तोड़ दिए। अगस्त-21 के बाद शहर में बहुत सारे पर्यटक आए। हम बात कर रहे हैं पर्यटन विभाग की उपनिदेशक शिखा सक्सेना, पश्चिम क्षेत्र सांस्कृतिक केंद्र की डायरेक्टर किरण सोनी गुप्ता और महाराणा प्रताप एयरपोर्ट की डायरेक्टर नंदिता भट्ट की।

शिखा सक्सेना, डिप्टी डायरेक्टर, पर्यटन विभाग

देसी ट्रैवल ब्लॉग के जरिए उदयपुर के बारे में विदेश भर को बताया।  ये ही नहीं, नाइट टूरिज्म को बढ़ावा देने पर्यटन स्थलों का समय रात नौ बजे तक बढ़ा दिया। हर चार गाइड की दर 350 से बढ़वाकर 1050 रुपए करवाई। शहर के साथ-साथ आदिवासी महिलाओं को हर्बल गुलाल बेचने पर्यटन स्थलों पर जगह दिलवाई। इनकी सभी उपलब्धियों में सबसे पहले अगस्त में रिकॉर्ड तोड़ एक लाख से ज्यादा पर्यटकों का  लेकसिटी में आना है  इसके बाद लगातार नए रिकॉर्ड बने।

नंदिता भट्ट, डायरेक्टर, महाराणा प्रताप एयरपोर्ट

एयरपोर्ट की सुंदरता निखारने के लिए नंदिता ने कई प्रपोजल खुद डिजाइन कर जमीनी स्तर पर लागू करवाए। नेशनल के बाद  इंटरनेशनल एयरपोर्ट के लिए 40 हजार वर्गमीटर में नई टर्मिनल बिल्डिंग का प्रस्ताव मंजूर करवाया। इसके साथ ही प्रदेश की दूसरी कार्गो सेवा उदयपुर में शुरू करवाने में भी नंदिता ने अपने कदम बढ़ाए।  हाईटेक टर्मिनल के लिए 3 करोड़ मंजूर करवाना, 12 विमान की क्षमता वाला नया एप्रन बनवाना, और एक और एप्रन की मंजूरी मिली। इनकी सभी उपलब्धियों में दिसंबर 2021 में यात्री भार 158 लाख तक पहुंचना है। इतने यात्री इससे पहले कभी प्लेन से उदयपुर नहीं पहुंचे थे।

किरण सोनी गुप्ता, डायरेक्टर, वेस्ट जोन कल्चर

किरण सोनी गुप्ता ने शिल्पग्राम में मल्टी स्टोरी प्रोजेक्ट लाकर किरण ने कलाकारों को नया मंच दिया। इस से कलाकारों के रहने और एग्जीबिशन लिए सुविधा बढ़ी। कोरोना काल की चुनौतियों के बीच 500 से ज्यादा कलाकारों को ऑनलाइन मंच और रोजगार के अवसर प्रदान किए। पेंटिंग्स, कठपुतली शो आदि से जुड़े लोक कलाकारों को नया मंच देकर उनका प्रोत्साहन किया।  इनकी उपलब्धियों में कोरोना की पाबंदियों के बीच शिल्पग्राम महोत्सव का सफल आयोजन करवाना है। इस बार 1.25 लाख से ज्यादा सैलानी शामिल हुए थे।

Information Source: Dainik Bhaskar